कैलंडर रीजनिंग की PDF फाइल परीक्षा उपयोगी

Sumit Dubey 12:43
कैलंडर से सम्बंधित प्रश्न सरकारी नौकरी की परीक्षाओं में पूछे जाते हैं l कैलंडर से सम्बंधित प्रश्न अधिकतर रेलवे की परीक्षाओं में पूछे जाते हैं l सामान्य तौर पे सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में कैलंडर के प्रश्न पूछे जाते हैं l कैलंडर के रीजनिंग के प्रश्न बहुत ही महत्वपूर्ण होते है, इस रीजनिंग के विषय में कैलंडर के प्रश्न आपके अछे नंबर लेन में मदद अवश्य करते हैं बशर्ते आप कैलंडर के रीजनिंग को अछे से अध्धयन करे l इस पोस्ट में हमने कैलंडर के प्रश्नों को किस तरह से हल कर सकते हैं व किस तरह के प्रश्न प्रतियोगी परिषाओं में पूछे जाते हैं यह सभी कैलंडर के विषय में सम्पूर्ण अध्धयन किया गया है l
कैलंडर रीजनिंग के पीडीएफ फाइल

कैलंडर के प्रश्नों को हल करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण तथ्य :
  • विश्व में सर्वधिक प्रचलित कैलंडर को ग्रिगेरियन कैलंडर के नाम से जाना जाता है l
  • सात दिनों से मिलकर एक सप्ताह बनता है l in दिनों के बाद ऐसे दिन जो पूर्ण सप्ताह का निर्माण नहीं करते विषम दिन या अतिरिक्त दिन कहलाते हैं l
  • विषम दिन ज्ञात करने के लिए दिए गए दिनों की संख्या यदि 7 से अधिक हो तो उसमें 7 का भाग दिया जाता है l भाग देने पर जो शेषफल आता है वही हमारे विषम दिन होते हैं l इनकी संख्या 1 से 6 तक हो सकती है l
  • एक साधारण वर्ष में कुल 7 महीने 31 दिन को होते हैं अंत : इनमें विषम दिनों की संख्या 3 होती है l ये महीने जिस वार से प्रारम्भ होते हैं उससे आगे के दो दिन बाद समाप्त होते हैं l
  • एक साधारण वर्ष में ४ महीने 30 दिन को होते है अंत : इनमें विषम दिनों की संख्या 2 होते है l ये महीने जिस वार को प्रारम्भ होते है उससे अगले दिन समाप्त होते है l
  • एक लीप वर्ष में फरवरी माह 29 दिन का होता है अंत : इसमें विषम दिनों की संख्या होती है l ये माह जिस दिन प्रारम्भ होता है उसी दिन समाप्त होते है l
  • एक साधारण वर्ष में फरवरी माह 28 दिन का होता है अंत : इसमें विषम दिनों की संख्या 0 होती है l ये माह जिस दिन प्रारम्भ होता है उससे एक दिन पहले समाप्त होता है l
  • एक साधारण वर्ष में कुल 365 दिन या 52 सप्ताह + 1 दिन होते है l अंत : ये वर्ष जिस दिन प्रारम्भ होते है उसी दिन समाप्त होते है l
  • साधारण वर्ष में 1 जनवरी को जो वार होगा है वह पुरे वर्ष में 53 वार जबकि अन्य दिन 52 वार आते हैं l
  • एक लीप वर्ष में कुल 366 दिन या 52 सप्ताह + 2 विषम दिन होते हैं अंत : ये वर्ष जिस दिन प्रारम्भ होते है उससे अगले दिन समाप्त होते है l
  • लीप वर्ष में 1 तथा 2 जनवरी को जो वार होते है वे पुरे वर्ष में 53 बार जबकि अन्य दिन 52 बार आते हैं l
  • यदि दिए गए सन के इकाई दहाई अंक में 4 का पूरा - पूरा भाग जाता है तो वर्ष लीप वार्ह्स कहलाता है l लीप वर्ष हर चौथे साल में आता है तथा लीप वर्ष के फरवरी माह में कुल 29 दिन होते है l
  • यदि दिए गया शताब्दी होता तो उसमें 4 का भाग न देकर 400 का भाग दिया जाता है तथा वह वर्ष शताब्दी लीप वर्ष कहलाता है यह हर 400 साल में एक बार आता है l जैसे 800, 1200, 2000 l

प्रश्न : यदि 5 अगस्त को शुक्रवार है तो 30 अगस्त को क्या होगा ?
हल : 5 अगस्त से 30 अगस्त के मध्य कुल दिन = 30 * 5 = 25
25, 7 से बड़ी संक्युआ अंत : इसमें 7 का भाग देने पर शेषफल 4 आता है l अब दिए गए वार शुक्रवार से 4 दिन आगे बढ़ने पर मंगलवार आएगा l अंत : 30 अगस्त को मंगलवार होगा l शुक्रवार - शनिवार - रविवार - सोमवार - मंगलवार
कैलंडर की पीडीएफ फाइल
  • कुल पेज : 9
  • पीडीएफ फाइल साइज़ : 1 mb


यह भी ध्यान दें
  • यह कैलंडर रीजनिंग की PDF फाइल परीक्षा उपयोगी पोस्ट को नीचे दिए शेयर के बटन पर क्लिक कर के अपने दोस्तों के whatsapp ग्रुप में शेयर करें l

I am CEO and Owner of PapaGK. I like write General Knowledge and Current Affairs for government job preparation article in Hindi language. If you like this, Subscribe this website by email.

Share this

Related Posts

Previous
Next Post »

1 comments:

comments
10 December 2019 at 17:33 delete

अपनी कमाई बढ़ाने के लिए इस समूह में शामिल हों।
एक दूसरे के Adsense विज्ञापनों पर क्लिक करने और पैसा कमाने का यह आसान तरीका है।
ध्यान दें:-
प्रत्येक सदस्य को प्रत्येक लिंक पर जाना चाहिए और एक दूसरे का पक्ष लेने के लिए प्रतिदिन निम्नलिखित बातें करनी चाहिए।
करने के लिए काम:-
1. 10 पेज देखना होगा
2. वहाँ 3 मिनट वेबसाइट पर रुकना होगा
3. किसी भी 1 विज्ञापन पर क्लिक करें
आय के स्रोत उत्पन्न करने के लिए अधिक सदस्य लाएँ और कृपया किसी को धोखा न दें। उम्मीद है कि हम एक साथ काम करेंगे और एक दूसरे की मदद करेंगे।
धन्यवाद।
https://chat.whatsapp.com/LjQUonwQutj1g3Hv6VE7ey

Reply
avatar

You can comment here...We will reply shortly...